Tuesday, 1 September 2015

स्वच्छता जीवन है l


आज हमने सोलन के उन जीवन स्रोतों (जल भण्डारों) का मुआयना किया, जहाँ शिक्षा-क्रांति ने पिछली कई बार सफाई अभियान किए हैं । तालाबों के चारों ओर साफ़-सुथरा परिसर देख कर जो आत्मिक शान्ति मिली उसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता। लोग बदल रहे हैं ।




No comments:

Post a Comment